Saturday, August 8, 2020
Home Poem राकेश राजभर के द्वारा सरकार पर लिखी कविता एक बार जरूर पढ़ें

राकेश राजभर के द्वारा सरकार पर लिखी कविता एक बार जरूर पढ़ें

वो देश बेचकर वफादार हो गए
हम सवाल पूछकर गद्दार हो गए।

अब वही आपको पराये लगने लगे
जिनके वोट से आप सरकार हो गए।

कुर्सी के खातिर क्या करोगे साहब
हद से ज्यादा आप मक्कार हो गए।

वादा था शिक्षा स्वास्थ्य रोजगार का
अब दुर्दशा ही सबके उपहार हो गए।

कुछ निर्णय का हम स्वागत करते हैं
कुछ जवाब दो जो वादे बेकार हो गए।

लेखक-राकेश राजभर

rajbharinindiahttps://rajbharinindia.in
My name is Rameshwar Rajbhar Mau utter pradesh

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नागपंचमी पर नागवंशी राजभर युवाओं का जलवा, 9 पुरस्कार में से 8 किया अपने नाम

आज नागपंचमी के शुभ अवसर पर जिला गाजीपुर के गांव जगदीशपुर नदूला में ऊँची कूद और लंबी कूद का प्रतियोगिता कराया गया...

“आईना में अक्स” पाखंड अन्धविश्वास के खिलाफ राकेश राजभर द्वारा लिखी पुस्तक

राकेश राजभर ने पाखंड अन्धविश्वाश के खिलाफ एक एक पुस्तक लिखी है जिसका नाम है "आईना में अक्स" यह एक गजल संग्रह...

जिसका अंदेशा वही हुआ विकास दूबे अगर मुंह खोलता तो कई बड़े नेता और अफसर मुंह खोलने के लायक नहीं रहते-ओमप्रकाश राजभर

ओमप्रकाश राजभर ने विकास दूबे एनकाउंटर को लेकर सरकार पर कसा तंज , कहा जिसका अंदेशा वही हुआ विकास दूबे अगर मुंह...

आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटायेगी अखिल भारतीय राजभर संगठन

अखिल भारतीय राजभर संगठन व विश्व राजभर / भर फॉउंडेशन का बड़ा ऐलान आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटायेगे। एडवोकेट...

Recent Comments