Tuesday, August 11, 2020
Home News पीएम मोदी ने कहा,हम अपने घरों में जरूर है लेकिन अकेला नहीं...

पीएम मोदी ने कहा,हम अपने घरों में जरूर है लेकिन अकेला नहीं है पढ़ें

पीएम मोदी ने कहा,हम अपने घरों में जरूर है लेकिन अकेला नहीं है पढ़ें

नई दिल्ली : आज 3 अप्रैल दिन शुक्रवार को सुबह 9 बजे माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने राष्ट्र को सम्बोधित करते हुए देशवासियों के साथ संदेश साझा किया। उन्होंने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी के देशव्यापी लॉकडाउन को आज नौ दिन हो रहे हैं। इस दौरान आप सभी ने जिस प्रकार अनुशासन और सेवा भाव दोनों का परिचय दिया है। शासन प्रशासन और जनता ने इस स्थिति को अच्छे ढंग से संभालने का पूरा प्रयास किया है। आपने जिस प्रकार 22 मार्च रविवार के दिन कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले हर किसी का धन्यवाद किया वो भी आज सभी देशों के लिए एक मिसाल बन गया है आज कई देश इसको दोहरा रहे हैं।

प्रधानमंत्री जी ने कहा,ये लॉकडाउन का समय जरूर है, हम अपने अपने घरों  में जरूर हैं, लेकिन हम में से कोई अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति हर व्यक्ति के साथ है। हमारे यहां माना जाता है कि जनता जनार्दन, ईश्वर का ही रूप होती है। इसलिए जब देश इतनी बड़ी लड़ाई लड़ रहा हो, तो ऐसी लड़ाई में बार-बार जनता रूपी महाशक्ति का साक्षात्कार करते रहना चाहिए। हमें निरंतर प्रकाश की ओर जाना है, जो इस कोरोना संकट से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं, हमारे गरीब भाई-बहन उन्हें कोरोना संकट से मिली निराशा से आशा की तरफ ले जाना है।

उन्होंने ने कहा कि इस कोरोना संकट से जो अंधकार पैदा हुई है, उसे समाप्त करके हमें उजाले की तरफ बढ़ना है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों से अपील की कि इस रविवार 5 अप्रैल को, हम सबको मिलकर, कोरोना के संकट के अंधकार को चुनौती देनी है, उसे प्रकाश की ताकत का परिचय कराना है। हम लोग घर की सभी लाइटें बंद करके, घर के दरवाजे पर या बालकनी में, खड़े रहकर, 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं। जब हम घर की सभी लाइटें बंद करेंगे, चारों तरफ हर व्यक्ति एक-एक दीया जलाएगा, तब प्रकाश की उस महाशक्ति का ऐहसास होगा, जिससे हमें एहसास होगा कि हम लोग एक ही मकसद से लड़ रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा कि हम लोग उस प्रकाश में अपने मन में ये संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं, 130 करोड़ देशवासी, एक ही संकल्प के साथ कृतसंकल्प हैं। मेरी एक और प्रार्थना है कि इस आयोजन के समय किसी को भी, कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है। रास्तों में, गलियों या मोहल्लों में नहीं जाना है, अपने घर के दरवाजे, बालकनी से ही इसे करना है। सोसल डिस्टेन्सिग का विशेष ध्यान रखना है।

rajbharinindiahttps://rajbharinindia.in
My name is Rameshwar Rajbhar Mau utter pradesh

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नागपंचमी पर नागवंशी राजभर युवाओं का जलवा, 9 पुरस्कार में से 8 किया अपने नाम

आज नागपंचमी के शुभ अवसर पर जिला गाजीपुर के गांव जगदीशपुर नदूला में ऊँची कूद और लंबी कूद का प्रतियोगिता कराया गया...

“आईना में अक्स” पाखंड अन्धविश्वास के खिलाफ राकेश राजभर द्वारा लिखी पुस्तक

राकेश राजभर ने पाखंड अन्धविश्वाश के खिलाफ एक एक पुस्तक लिखी है जिसका नाम है "आईना में अक्स" यह एक गजल संग्रह...

जिसका अंदेशा वही हुआ विकास दूबे अगर मुंह खोलता तो कई बड़े नेता और अफसर मुंह खोलने के लायक नहीं रहते-ओमप्रकाश राजभर

ओमप्रकाश राजभर ने विकास दूबे एनकाउंटर को लेकर सरकार पर कसा तंज , कहा जिसका अंदेशा वही हुआ विकास दूबे अगर मुंह...

आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटायेगी अखिल भारतीय राजभर संगठन

अखिल भारतीय राजभर संगठन व विश्व राजभर / भर फॉउंडेशन का बड़ा ऐलान आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटायेगे। एडवोकेट...

Recent Comments