मोदी के अपील पर लोगों ने थाली बजाया, कुछ जगहों पर जुलूस निकला

मोदी के अपील पर लोगों ने थाली बजाया, कुछ जगहों पर जुलूस निकला

0
88

न्यूज़ : मोदी जी ने जनता कर्फ्यू की माँग किया और देशहित मे लोगो ने उनका समर्थन भी किया, ऐसा होना भी चाहिए। उन्होने घंटी, थाली, ताली से डॉक्टर , नर्स इत्यादि स्वास्थ्यकर्मियो को धन्यवाद देने के लिए कहा था। लेकिन कुछ लोगो ने कुछ जगहो पर जुलूस निकालकर थाली पीटे, कहीं कहीं पटाखे फोड़े गए, लोहा , प्लास्टिक, टीन सबकुछ बजाया गया। कहीं-कहीं समूह मे एकसाथ लोगो ने निकलकर थाली पीटे जबकि भीड़ से बचने की हिदायत दी गई थी। जबकी मोदी जी बोले कि इसे जीत की तरह सेलिब्रेट ना करें लेकिन लोगों ने इन बातों को नजर अंदाज कर दिया।

सबसे महत्वपूर्ण बात ये की कुछ विद्वान लोगो ने ताली थाली , घंटी पीटने को लेकर धार्मिक कारण के साथ-साथ वैज्ञानिक कारण भी बताने लगे की ताली घंटी से कोरोना भागेगा।जैसे गाय की मूत्र पीने व गोबर मे नहाने से कोरोना भाग गया ठीक उसी प्रकार घंटी से भी भाग जाएगा। 90 के दशक मे संघ वाले अफवाह फैलाए की गणेश भगवान दूध पी रहे हैं, और लोगो ने दूध लेकर मंदिर भागना शुरू किया था। असल मे समय समय पर इस देश की लोगो की बुद्धि परीक्षण करने का काम तथाकथित मनुवादियों द्वारा किया जाता और इस बार भी गोबर मूत्र से प्रयोग किया गया लेकिन वो देश स्तर पर फेल हो जाने के वजह से रुक गया।

अब जरूरी हैं की सरकार की क्या तैयारियां हैं इस बात पर प्रधानमंत्री जी स्थिति स्पष्ट करे।
कितनी जांच प्रतिदिन हो रही हैं ?
कितने डॉक्टर काम पर हैं?
प्राइवेट डॉक्टर व अस्पताल के लिए सरकार की क्या सहयोग हैं व प्राइवेट अस्पताल को कैसे प्रयोग मे लाना हैं?
किस राज्य को कितना आर्थिक मदद की घोषणा की गई?

सरकार एक सप्ताह के लिए पुरे भारत मे कर्फ्यू लागू करे। और उस दौरान जो दिहाड़ी मजदूर , व छोटे व्यवसाय व दुकान चलाने वाले लोगो की आर्थिक मदद का ऐलान किया जाए जिससे की वो अपने परिवार को पाल सके।
हर पंचायत स्तर पर जांच करने के लिए सरकार कैंप लगाए। और जो संदिग्ध पाए जाते हैं उसकी इलाज हो। सरकार के साथ साथ जीतने भी सांसद , विधायक हैं वे अपनी निधि से पैसे खर्च करके मास्क, व अन्य जरूरी चीजो को उपलब्ध कराए।

जो भी भावी प्रत्याशी चुनाव मे खड़े होनेवाले हैं वो इस बार दारू मुर्गा का पैसे अच्छे कामो मे खर्च करे। जिस विभाग मे ज्यादा रिश्वतखोरी हैं उस सरकारी विभाग के अधिकारी भी कुछ ब्लैक मनी को जनता की सेवा मे खर्च करे। आम आदमी को भी असली राष्ट्रवाद का परिचय देना चाहिए, लेकिन दुर्भाग्य हैं की 20 का मास्क 60-70 मे लोग बेच रहे हैं। क्या यही हैं देशभक्ति ? देशभक्ति सिर्फ भारत माता की जय नारा लगाने तक ही सीमित नही रखना चाहिए। और खास बात सरकार की हर काम पर नजर बनाए रखे क्योकि भीड़ कम करने के लिए सरकार ने प्लेटफार्म टिकट 10 से बढ़ाकर 50 कर दिया।

जैसे कोरोना से बचने के लिए जनता कर्फ्यू का लोगो ने समर्थन किया उसी तरह अगर मोदी जी अपील किए होते की स्टेशनों पर भीड़ कम रखी जाए तो लोग जरूर उनकी बातो को पालन किए होते। कोरोना के वजह से टिकट का दाम जो बढ़ा हैं क्या कोरोना महामारी के बाद टिकट के दाम घटाए जाएंगे? मेरा अनुमान हैं नही। कोरोना वाले माहौल मे कुछ सामाजिक पोस्ट करने पर कुछ महान दोस्तो को लगता हैं, की इस दुःख की घड़ी मे भी जातिवाद फैल रहा हैं।

जबकि गोरखपुर मे निषाद जाति के ऊपर सवर्ण दबंगों का अत्याचार हुआ हैं। और रायबरेली मे पासी समाज की लड़की का रेप हुआ हैं। इस मुश्किल दौर मे भी मानवता विरोधी लोग अपनी मानसिकता से बाहर नही आ रहे हैं। इस समय सरकार पर सवाल उठाने पर लोग कहते हैं की इस समय भी आपलोग सियासत कर रहे हैं। जबकि अरबो रूपये से विधायक खरीद कर मध्य-प्रदेश मे सरकार बनाने की खेल भाजपा खेल रही हैं। क्या इस समय ये सियासत होनी चाहिए ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here