अब अपना दल भी भागीदारी संकल्प मोर्चा में हुआ सामिल, राजनीति गलियारों में मचा हड़कंप

0
784

लखनऊ। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे ओम प्रकाश राजभर ने सरकार की जन विरोधी नीतियों का विरोध करने के लिए भागीदारी संकल्प मोर्चा का गठन 10 दिसम्बर 2019 को किया गया था उस दौरान 6 पार्टियों के मेल से संकल्प मोर्चा की नीव रखी गई थी।

गठन के बाद से संकल्प मोर्चा की दर्जनों सभाएं कर अधिक से वंचित लोगों को एकजुट करने का किया गया है लाॅकडाऊन के समय एक बार फिर राजनीतिक गलियारे में संकल्प मोर्चा ने हडकंप मचा दिया है। अपना दल की राष्ट्रीय अध्यक्ष कृष्णा पटेल द्वारा सुभासपा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर को पत्र लिख कर भागीदारी संकल्प मोर्चा में सामिल होने की घोषणा कर दी है।

भागीदारी संकल्प मोर्चा यह पार्टियां है सामिल

बाबू सिंह कुशवाहा पूर्व मंत्री राष्ट्रीय अध्यक्ष जन अधिकार पार्टी, ओमप्रकाश राजभर पूर्व मंत्री विधायक राष्ट्रीय अध्यक्ष सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, कृष्णा पटेल राष्ट्रीय अध्यक्ष अपना दल(कमेरावादी), प्रेमचंद प्रजापति राष्ट्रीय अध्यक्ष राष्ट्रीय उपेक्षित समाज पार्टी, अनिल सिंह चौहान राष्ट्रीय अध्यक्ष जनता क्रांति पार्टी, रामकरण कश्यप राष्ट्रीय अध्यक्ष भारतीय वंचित समाज पार्टी, रामधनी बिंद राष्ट्रीय अध्यक्ष भारतीय मानव समाज पार्टी, बाबू रामपाल राष्ट्रीय अध्यक्ष राष्ट्रीय उदय पार्टी.

भागीदारी संकल्प मोर्चा की मुख्य मांगे

  • पिछडे, दलित, अल्पसंख्यकों, की हत्याओं और उत्पीड़न को तत्काल रोका जाए और अविलम्ब ऊनकी रिपोर्ट लिखकर समुचित विधिक कार्यवाही की जाए।
  • किसानों को उनके सभी उत्पादों पर समर्थन मूल्य दिया जाना सुनिश्चित किया जाए और किसानों का ऋण माफ किया जाय।
  • श्रमिकों मजदूरों की जीविका के लिए एक मुस्त 15000 रूपये दिये जाए और प्रतिमाह 7500 दिया जाए।
  • नवजवानों बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध कराया जाय।
  • छोटे व मंझले किसानों का खर्ज माफ किया जाए एवं बिजली का बिल मांफ किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here