Monday, September 28, 2020
Home Inspirational Story Dr. Bhimrao Ambedkar ( inspirational story ) Rajbhar in india

Dr. Bhimrao Ambedkar ( inspirational story ) Rajbhar in india

Dr%2BB%2BR%2BAmbedkar.jpg Dr. Bhimrao Ambedkar  ( inspirational story ) Rajbhar in india
Dr. Bhimrao Ambedkar

Dr. Bhimrao Ambedkar Inspirational Story

बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर के नाम से जानें जाने वाले डाॅ. भीमराव रामजी अम्बेडकर न्यायविद , समाज सुधारक और राजनीतिज्ञ थे। उन्हें भारतीय संविधान के पिता के रूप में जाना जाता है। अपने पुरे जीवन में उन्होंने दलितों और अन्य सामाजिक रूप से पिछड़े वर्गों के अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी थी। उनका जन्म 14 अप्रैल 1891 में हुआ था और 6 दिसम्बर 1956 को उनका निधन हो गया।
बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर जी का जन्म भीमाबाई और रामजी के घर 14 अप्रैल 1891 को महू आर्मी कैंटोनमेंट मध्य प्रदेश में हुआ था। अम्बेडकर के पिता भारतीय सेना में सूबेदार थे 1894 में उनकी सेवानिवृत्त के बाद , परिवार सतारा चला गया था। इसके कुछ समय बाद ही उनके माता जी का निधन हो गया । इसके चार साल बाद ,उनके पिता ने पुनर्विवाह किया और परिवार मुंबई सिफ्ट हो गया । 15 वर्ष की आयु में अम्बेडकर जी ने 1906 में 9 वर्ष की लड़की रमाबाई से शादी की । शादी के 6 साल बाद 1912 में उनके पिता रामजी का मृत्यु हो गया।
अपने पुरे बचपन में अम्बेडकर ने जातिगत भेदभाव के कलंक का सामना किया ।उनके परिवार को उच्च वर्गों द्वारा “अछूत” के रूप में देखा गया। आर्मी स्कूल में अम्बेडकर के भेदभाव का कारण बना। समाजिक आक्रोश के डर से , अध्यापक निम्न वर्ग के छात्रों को ब्राम्हणो और अन्य उच्च वर्गों से अलग कर दिया गया था।


Dr. Bhimrao Ambedkar Ke महान कार्य

  • मानवाधिकार जैसे दलितों एवं दलित आदिवासियों के मन्दिर प्रवेश , पानी पीने , छुआछूत , जाति-पाति , उच्च नीच जैसी समाजिक कुरितियों को मिटाने के लिए कार्य किये।
  • उन्होंने मनुस्मृति दहन (1927), महाड सत्याग्रह (1928), नासिक सत्याग्रह (1930), येवला की गर्जना (1935), जैसे आन्दोलन चलाए।
  • बेजुबान, शोषित और अशिक्षित लोगों को जागरूक करने के लिए 1927 से 1956 के दौरान मूल नायक , बहिष्कृत भारत, समता , जनता और प्रबुद्ध भारत नामक पांच सप्ताहिक और पाक्षिक पत्र पत्रिकाओं का संपादन किया।
  • उन्होंने छात्रावास, नाइट स्कूल, ग्रन्थालयों और शैक्षणिक गतिविधियों के माध्यम से कमजोर वर्गों के छात्रों को अध्ययन करने और साथ ही आय अर्जित करने के लिए उन्हें सक्षम बनाया। सन् 1945 में उन्होंने अपनी पिपुल्स एजुकेशन सोसायटी के जरीये मुम्बई में सिद्धार्थ महाविद्यालय और औरंगाबाद में मिलिन्द महाविद्यालय की स्थापना की।
  • हिन्दू विधेयक संहिता के जरिए महिलाओं को तलाक , सम्पति में उत्तराधिकारी आदि का प्रावधान कर उसके कार्यान्वयन के लिए संघर्ष किया।
  • भारत में रिजर्व बैंक आफॅ इंडिया की स्थापना डाॅ. अम्बेडकर की रचना , रूपये की समस्या उसका उद्भाव और प्रभाव  और भारतीय चलन बैंकिंग की इतिहास और हिल्टन यंग कमिशन के समक्ष उनके साक्ष्य के आधार पर 1935 ें हुई।
  • उनके दूसरे शोध ब्रिटिश भारत में प्रांतिय वित का विकास के आधार पर देश में वित्त आयोग की स्थापना हुई।
  • सन् 1945 में उन्होंने देश के लिए जलनीति और औद्योगिकीकरण की आर्थिक नीतियां जैसे नदी नाले को जोड़ना , हीराकुंड बांध, दामोदर घाटी बांध, सोन नदी घाटी परियोजना, राष्ट्रीय जलमार्ग, केन्द्रीय जल और विद्युत प्राधिकरण बनाने के मार्ग प्रशस्त किये।
  • सन् 1944 में प्रस्तावित केन्द्रीय जल मार्ग और सिंचाई आयोग के प्रस्ताव को 4 अप्रैल 1945 को वाइसराय की ओर से अनुमोदित किया गया और बड़े बांधों वाली तकनिकों को भारत में लागू करनें हेतु प्रस्तावित किया।

संविधान निर्माण

  • उन्होंने समता , समानता ,बन्धुता , एवं मानवता आधारित भारतीय संविधान को 2 साल 11 माह और 17 दिन में तैयार करने का अहम कार्य किया।
  • साल 1951 में महिला सशक्तिकरण का हिन्दू संहिता विधेयक पारित करवाने में प्रयास किया और पारित न होने पर स्वतन्त्र भारत के प्रथम कानून मंत्री के पद से इस्तीफा दिया।
  • निर्वाचन आयोग , योजना आयोग , वित्त आयोग , महिला पुरुष के लिए समान नागरिक हिन्दू संहिता , राज्य पुनर्गठन , राज्य के निति निर्देशक तत्व , मौलिक अधिकार , मानवाधिकार, निर्वाचन आयुक्त और समाजिक , आर्थिक , शैक्षणिक एवं विदेश निति बनाई ।
  • उन्होंने विधायिका , कार्यपालिका ,और न्यायपालिका में एसी , एसटी के लोगों की सहभागिता सुनिश्चित की ।


rajbharinindiahttps://rajbharinindia.in
My name is Rameshwar Rajbhar Mau utter pradesh

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

विकलांग दम्पति से नहीं मिले विकलांग कल्याण मंत्री, राह देखती रह गयी बेचारी

सुल्तानपुर : विकलांग दम्पति से नहीं मिले विकलांग कल्याण मंत्री श्री अनिल राजभर , दोनों दंपति पलकें बिछाए राह देख रहे थे...

जीतेंद्र राजभर के बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य का जिम्मेदारी सुशांत राज भारत ने लिया।

बलिया: पिछले 6 अगस्त 2020 को बलेऊर सहतवार के जितेंद्र राजभर की हत्या कुछ निरंकुश हत्यारों के द्वारा की गई थी। इस...

सुभासपा की मांग समाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट लागू करें, समाज का एक बहुत बड़ा तबका नहीं उठा रहा आरक्षण का लाभ

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने समाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट लागू करने की मांग...

योगी सरकार सदन में किसानों की समस्याओं पर चर्चा करने के बजाय प्रदेश की जनता को शायरी सुनाने में लगी है- ओमप्रकाश राजभर

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने बीजेपी पर तंज कसते हुए बोला कि योगी सरकार सदन में किसानों...

Recent Comments