Tuesday, August 11, 2020
Home News रेलवे ,एयर इंडिया और भारत पेट्रोलियम बेचने के बाद, सरकारी अस्पतालों पर...

रेलवे ,एयर इंडिया और भारत पेट्रोलियम बेचने के बाद, सरकारी अस्पतालों पर नजर

अब केंद्र की सरकार ज़िला सरकारी अस्पतालों को भी निजी हाथों में देने की तैयारी में लग गई है।

अब केंद्र की सरकार ज़िला सरकारी अस्पतालों को भी निजी हाथों में देने की तैयारी में लग गई है। इससे पहले मोदी सरकार भारतीय रेलवे के कुछ हिस्सों, एयर इंडिया और भारत पेट्रोलियम को निजी हाथों में बेच चुकी है केंद्र की प्रमुख थिंक टैंक नीति आयोग ने पीपीपी मॉडल के तहत निजी मेडिकल कॉलेज से जिला अस्पतालों को जोड़ने की योजना’ को लेकर 250 पन्नों का दस्तावेज जारी किया है।
अगर सरकार की ये योजना लागू हो जाती है तो निजी व्यक्ति या संस्थान मेडिकल कॉलेज की स्थापना और उसे चलाने की जिम्मेदार सब उनकी हो जायेगी। इसके अलावा इन मेडिकल कॉलेजों से सेकेंडरी हेल्थकेयर सेंटर को जोड़ा जा सकेगा और ये सेंटर भी निजी हाथों से नियंत्रित किये जायेंगे।
नीति आयोग ने इस योजना को लेकर जो दस्तावेज जारी किए हैं उस योजना में दिलचस्पी रखने वाले लोगों से प्रतिक्रिया मांगी गई है। इस योजना में कहा गया है कि, जिला अस्पतालों में कम से कम 750 बेड होने चाहिए। इसमें लगभग आधे “मार्केट बेड” और बाकी “रेग्यूलेटेड बेड” के रूप में होंगे। मार्केट बेड की कीमत बाजार के आधार पर होगी। इसी की बदौलत रेग्यूलेटेड बेड पर छूट दी जा सकेगी।इस योजना को लागू करने का मुख्य कारण है केंद्र और राज्य की सरकार अपने सीमित संसाधन और सीमित खर्च की वजह से चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में अंतर को खत्म नहीं कर सकते हैं। ऐसे में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने और चिकित्सा क्षेत्र में पढ़ाई की लागत को तर्कसंगत बनाने के लिए यह फैसला लिया गया है।
JSA और एसोसिएशन ऑफ डॉक्टर्स फॉर एथिकल हेल्थकेयर ने इस योजना का विरोध किया है। और इस योजना के खिलाफ सरकार को पत्र लिखने का भी फैसला किया है।
जन स्वास्थ्य अभियान के नेशनल को-कनवेनर डॉ अभय शुक्ला ने न्यू इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “इस नीति को लागू करने के बाद स्वास्थ्य सेवा और उसकी गुणवत्ता से समझौता करना पड़ेगा। इसका सबसे ज्यादा असर गरीबों पर पड़ेगा। हमारी सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा में निवेश की जरुरत है। किसी का यह कहना कि हमारे पास संसाधन की कमी हैं, यह गलत है क्योंकि हमारा स्वास्थ्य सेवा खर्च दुनिया में सबसे कम है।”

rajbharinindiahttps://rajbharinindia.in
My name is Rameshwar Rajbhar Mau utter pradesh

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नागपंचमी पर नागवंशी राजभर युवाओं का जलवा, 9 पुरस्कार में से 8 किया अपने नाम

आज नागपंचमी के शुभ अवसर पर जिला गाजीपुर के गांव जगदीशपुर नदूला में ऊँची कूद और लंबी कूद का प्रतियोगिता कराया गया...

“आईना में अक्स” पाखंड अन्धविश्वास के खिलाफ राकेश राजभर द्वारा लिखी पुस्तक

राकेश राजभर ने पाखंड अन्धविश्वाश के खिलाफ एक एक पुस्तक लिखी है जिसका नाम है "आईना में अक्स" यह एक गजल संग्रह...

जिसका अंदेशा वही हुआ विकास दूबे अगर मुंह खोलता तो कई बड़े नेता और अफसर मुंह खोलने के लायक नहीं रहते-ओमप्रकाश राजभर

ओमप्रकाश राजभर ने विकास दूबे एनकाउंटर को लेकर सरकार पर कसा तंज , कहा जिसका अंदेशा वही हुआ विकास दूबे अगर मुंह...

आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटायेगी अखिल भारतीय राजभर संगठन

अखिल भारतीय राजभर संगठन व विश्व राजभर / भर फॉउंडेशन का बड़ा ऐलान आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटायेगे। एडवोकेट...

Recent Comments