Wednesday, October 28, 2020
Home News मैं पैसा कमाने नहीं निकला हूं गरीबों को उनका अधिकार दिलाने निकला...

मैं पैसा कमाने नहीं निकला हूं गरीबों को उनका अधिकार दिलाने निकला हूं – ओमप्रकाश राजभर

FB_IMG_1574610335317 मैं पैसा कमाने नहीं निकला हूं गरीबों को उनका अधिकार दिलाने निकला हूं - ओमप्रकाश राजभर
24 नवंबर 2019 को जनता इंटर कालेज के मैदान अतरौली जनपद हरदोई में महाराजा सल्हिय सिंह अर्कवंशी जी के 13वां स्थापना दिवस के शुभ अवसर पर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी द्वारा आयोजित विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए  सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.ओमप्रकाश राजभर जी ने कहा योगी के मंत्री भ्रष्टाचार में लिप्त है जिन्हें योगी सरकार ने हटा कर दिखाया ।जब ओमप्रकाश राजभर कहता था तो बुरा लगता था तो अब क्यों हटा रहे हो । 
7 बार जांच कराई ओमप्रकाश राजभर का लेकिन एक रोंवां तक टेड़ नहीं कर पाये। ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि मैं पैसा कमाने नहीं निकला हूं हम गुलामों को उनका एहसास कराने और गरीबों को उनका अधिकार दिलाने निकला हूं।
FB_IMG_1574610328452 मैं पैसा कमाने नहीं निकला हूं गरीबों को उनका अधिकार दिलाने निकला हूं - ओमप्रकाश राजभर
अर्कवंशी समाज को संबोधित करते हुए कहा कि हम पूर्वांचल से आये हैं तेरे को जगाने अगर ओमप्रकाश राजभर चला गया तो कोई माई का लाल पैदा नहीं हुआ जो तुम्हें जगाये । मेरी इच्छा है कि 2022 में महाराजा सल्हिय सिंह अर्कवंशी के वंशज तेरे समाज के बेटे को मंत्री बनाकर हेलीकॉप्टर से तेरे बीच भेजूं। बस एक बार ओमप्रकाश राजभर की बात मान लो तेरे पास जो पावर है उससे मोदी को उतार कर गुजरात पहुंचा सकते हो और योगी को गोरखपुर पहुंचा सकते हो।
सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अरविन्द राजभर जी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी के दौर में एक गरीब का बच्चा पढ़ता है

क – कबूतर उड़ के आया
ख – खरबूजा लेकर खाया
ग – गमला में फूल सजाया 
घ – घड़ी में समय बताया
ड़ – मने कुछ समझ में नहीं आया 
वहीं दूसरी तरफ अमीर , डाक्टर, अधिकारी और नेता का बेटा पढ़ता है
ऐ फार एप्पल
बी फार ब्याय
सी फार कैट
डी फार डाॅग 

और जब जेड आता है तो कहता है जेड फार जेब्रा यानी एक प्रकार का घोड़ा अमीर , डाक्टर, अधिकारी और नेता का बेटा
अपने लक्ष्य को घोड़े की रफ्तार से प्राप्त करेंगें।
सरकारी स्कूल के अध्यापक का तनख्वाह 50 हजार है लेकिन जिस स्कूल में ओ पढ़ाता है उसमें उसका बेटा नहीं पढ़ता उसका बेटा पढ़ता है जहां अध्यापक का तनख्वाह 5 हजार है यानी कोनवेन्ट स्कूल में। 
जब तक शिक्षा का विकास नहीं हो सकता जब तक देश के शिक्षा का राष्ट्रीयकरण और समान शिक्षा पद्धति लागू नहीं हो जाता।
rajbharinindiahttps://rajbharinindia.in
My name is Rameshwar Rajbhar Mau utter pradesh

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

विकलांग दम्पति से नहीं मिले विकलांग कल्याण मंत्री, राह देखती रह गयी बेचारी

सुल्तानपुर : विकलांग दम्पति से नहीं मिले विकलांग कल्याण मंत्री श्री अनिल राजभर , दोनों दंपति पलकें बिछाए राह देख रहे थे...

जीतेंद्र राजभर के बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य का जिम्मेदारी सुशांत राज भारत ने लिया।

बलिया: पिछले 6 अगस्त 2020 को बलेऊर सहतवार के जितेंद्र राजभर की हत्या कुछ निरंकुश हत्यारों के द्वारा की गई थी। इस...

सुभासपा की मांग समाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट लागू करें, समाज का एक बहुत बड़ा तबका नहीं उठा रहा आरक्षण का लाभ

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने समाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट लागू करने की मांग...

योगी सरकार सदन में किसानों की समस्याओं पर चर्चा करने के बजाय प्रदेश की जनता को शायरी सुनाने में लगी है- ओमप्रकाश राजभर

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने बीजेपी पर तंज कसते हुए बोला कि योगी सरकार सदन में किसानों...

Recent Comments