Tuesday, August 11, 2020
Home News मा. सिद्धार्थ राजभर ने गरीब परिवार के छोटे-छोटे बच्चों को ब्रेड व...

मा. सिद्धार्थ राजभर ने गरीब परिवार के छोटे-छोटे बच्चों को ब्रेड व बिस्किट बांटकर मनाया क्रिसमस डे

Siddharth%2BRajbhar मा. सिद्धार्थ राजभर ने गरीब परिवार के छोटे-छोटे बच्चों को ब्रेड व बिस्किट बांटकर मनाया क्रिसमस डे
फोटो : सिद्धार्थ राजभर

  • मा. सिद्धार्थ राजभर ने गरीब परिवार के छोटे-छोटे बच्चों को ब्रेड व बिस्किट बांटकर मनाया क्रिसमस डे।
  • क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है।

आज दिनांक 25 दिसंबर 2019 को क्रिसमस डे के अवसर पर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के वाराणसी युवा जिला अध्यक्ष माननीय सिद्धार्थ राजभर जी ने गरीब परिवार के छोटे-छोटे बच्चों में ब्रेड व बिस्किट वितरण करके क्रिसमस डे मनाया।
कहते हैं कि जो बोओगे वही काटोगे अगर खुशियों बांटोगे तो आपको भी खुशियां मिलेगी । ऐसे ही है युवा सम्राट युवा दिलों की धड़कन वाराणसी युवा जिला अध्यक्ष माननीय सिद्धार्थ राजभर जी । गरीबों का सहारा बनना इनके ज़िन्दगी का हिस्सा है इसीलिए हमेशा ही गरीबों की मदद के लिए तैयार रहते हैं।
Siddharth%2BRajbhar%2B3 मा. सिद्धार्थ राजभर ने गरीब परिवार के छोटे-छोटे बच्चों को ब्रेड व बिस्किट बांटकर मनाया क्रिसमस डे
फोटो : सिद्धार्थ राजभर
आज वाराणसी में क्रिसमस डे के अवसर पर बच्चों में खुशियों बांटते दिखे। बच्चें भी बहुत  एक्साइटेड थे और उनके चेहरे पर खुशियां झलक रही थी।
Siddharth%2BRajbhar%2B2 मा. सिद्धार्थ राजभर ने गरीब परिवार के छोटे-छोटे बच्चों को ब्रेड व बिस्किट बांटकर मनाया क्रिसमस डे
फोटो : सिद्धार्थ राजभर

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

Kristmas मा. सिद्धार्थ राजभर ने गरीब परिवार के छोटे-छोटे बच्चों को ब्रेड व बिस्किट बांटकर मनाया क्रिसमस डे
क्रिश्चियन समुदाय के लोग हर साल 25 दिसंबर के दिन क्रिसमस का त्योहार मनाते हैं। यह ईसाई धर्म का सबसे बड़ा त्योहार है। इसी दिन प्रभु ईसा मसीह का जन्म हुआ था। इसलिए इसे बड़ा दिन भी कहते हैं।
क्रिसमस के 15 दिन पहले से ही इसाई धर्म के लोग तैयारी में जुट जाते हैं। और इस दौरान बजारों का रौनक बढ़ जाता है। क्रिसमस के कुछ दिन पहले से ही चर्च में विभिन्न कार्यक्रम शुरू हो जाते हैं।जो नया साल तक चलते रहते हैं। इसे इसाई समुदाय ही नहीं बल्कि अन्य धर्मों के लोग भी इसे मनाते हैं।
क्रिसमस पर बच्चों के लिए सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र होता है सांताक्रुज जो लाल और सफेद कपड़ों में बच्चों के लिए ढ़ेर सारे उपहार और चाॅकलेट लेकर आता है। यह एक काल्पनिक किरदार होता है जिसके प्रति बच्चों का लगाव होता है। ऐसा कहा जाता है कि सांताक्रुज स्वर्ग से आता है और लोगों को मन चाही चीजें उपहार के तौर पर देकर जाता है। यही कारण है कि कुछ लोग सांताक्रुज की वेशभूषा पहन कर बच्चों को भी खुश कर देते हैं।
rajbharinindiahttps://rajbharinindia.in
My name is Rameshwar Rajbhar Mau utter pradesh

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नागपंचमी पर नागवंशी राजभर युवाओं का जलवा, 9 पुरस्कार में से 8 किया अपने नाम

आज नागपंचमी के शुभ अवसर पर जिला गाजीपुर के गांव जगदीशपुर नदूला में ऊँची कूद और लंबी कूद का प्रतियोगिता कराया गया...

“आईना में अक्स” पाखंड अन्धविश्वास के खिलाफ राकेश राजभर द्वारा लिखी पुस्तक

राकेश राजभर ने पाखंड अन्धविश्वाश के खिलाफ एक एक पुस्तक लिखी है जिसका नाम है "आईना में अक्स" यह एक गजल संग्रह...

जिसका अंदेशा वही हुआ विकास दूबे अगर मुंह खोलता तो कई बड़े नेता और अफसर मुंह खोलने के लायक नहीं रहते-ओमप्रकाश राजभर

ओमप्रकाश राजभर ने विकास दूबे एनकाउंटर को लेकर सरकार पर कसा तंज , कहा जिसका अंदेशा वही हुआ विकास दूबे अगर मुंह...

आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटायेगी अखिल भारतीय राजभर संगठन

अखिल भारतीय राजभर संगठन व विश्व राजभर / भर फॉउंडेशन का बड़ा ऐलान आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटायेगे। एडवोकेट...

Recent Comments