Wednesday, November 25, 2020
Home Bollywood बालीवुड के मेगास्टार अमिताभ बच्चन को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से नवाजा...

बालीवुड के मेगास्टार अमिताभ बच्चन को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया।

Amitabh%2Bdada%2Bsaheb%2Bfalke%2Baward बालीवुड के मेगास्टार अमिताभ बच्चन को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से नवाजा गया।

न्यूज़ : बालीवुड के मेगास्टार अमिताभ बच्चन(बिग बी) को 29 दिसंबर 2019 को दादा साहेब फ़ाल्के पुरस्कार से नवाजा गया। यह अवॉर्ड 23 दिसंबर 2019 को ही मिलने वाला था। लेकिन अमिताभ जी का स्वास्थ्य ठीक न होने के कारण उस दिन नेशनल अवॉर्ड फंक्शन में नहीं आ पाए। प्रेसिडेंट ने स्पेशल सेरेमनी आयोजित कर अमिताभ को ये अवॉर्ड दिया है। इस सेरेमनी में जया बच्चन और अभिषेक बच्चन भी मौजूद थे।
अवॉर्ड लेने के बाद अमिताभ बच्चन ने भारत सरकार का आभार प्रकट किया। अपने फ़िल्मी करियर के साथियों और फ़ैंस का शुक्रिया अदा किया।‘भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी… सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर जी… मुझे इस सम्मान के लायक समझने के लिए धन्यवाद। फिल्म उद्योग के निर्माता, निर्देशकों का साथ रहा है, लेकिन सबसे ज्यादा भारत की जनता ने मेरा साथ दिया है।अमिताभ ने कहा, ‘कहीं ये पुरस्कार मुझे घर बैठकर आराम करने का संकेत तो नहीं दे रहा है। उन्होंने ये भी कहा कि कुछ काम बाकी रह गया है।
दादा साहेब फ़ाल्के अवॉर्ड इंडिया में सिनेमा के क्षेत्र में असाधारण काम करने के लिए दिया जाता है। इंडियन सिनेमा का सबसे बड़ा खिताब है। इसकी शुरुआत भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की तरफ से 1969 में की गई थी।पहले बरस ये अवॉर्ड मशहूर अभिनेत्री देविका रानी को दिया गया था। इंडियन सिनेमा के पितामह दादा साहेब के नाम पर दिए जाने वाले इस अवॉर्ड में स्वर्ण कमल, शॉल और 10 लाख रुपये की रकम दी जाती है।अमिताभ बच्चन के फ़िल्मी करियर की शुरुआत भी 1969 में ही हुई थी। फ़िल्म का नाम था सात हिंदुस्तानी। उनकी पहली फ़िल्म फ़्लॉप साबित हुई। उनके करियर की पहली सफल फ़िल्म थी ज़ंजीर. 1973 में रिलीज हुई और उसने अमिताभ को हिंदी सिनेमा का एंग्री-यंगमैन बना दिया ।उसके बाद की कहानी तो इतिहास में दर्ज है। अमिताभ बच्चन के खाते में एक से बढ़कर एक हिट फ़िल्में शामिल हैं।
अमिताभ दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड पाने वाले 50वें शख्स बन गए हैं।उनको चार बार बेस्ट एक्टर का नेशनल फिल्म अवॉर्ड भी मिल चुका है। पहली बार ‘अग्निपथ’ फिल्म के लिए 1990 में मिला। दूसरी बार साल 2005 में ‘ब्लैक’ फिल्म के लिए, तीसरी बार ‘पा’ फिल्म के लिए, साल 2009 में। चौथी बार ‘पीकू’ फिल्म के लिए, 2015 में।

rajbharinindiahttps://rajbharinindia.in
My name is Rameshwar Rajbhar Mau utter pradesh

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

केन्द्रीय कार्यालय रसड़ा बलिया में सुभासपा की शिक्षण प्रशिक्षण कार्यकर्त्ता बैठक हुई

आज दिनांक 18 नवंबर 2020 को सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी द्वारा आयोजित शिक्षण प्रशिक्षण कार्यकर्ता बैठक केंद्रीय कार्यालय रसड़ा बलिया में सम्पन्न...

विकलांग दम्पति से नहीं मिले विकलांग कल्याण मंत्री, राह देखती रह गयी बेचारी

सुल्तानपुर : विकलांग दम्पति से नहीं मिले विकलांग कल्याण मंत्री श्री अनिल राजभर , दोनों दंपति पलकें बिछाए राह देख रहे थे...

जीतेंद्र राजभर के बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य का जिम्मेदारी सुशांत राज भारत ने लिया।

बलिया: पिछले 6 अगस्त 2020 को बलेऊर सहतवार के जितेंद्र राजभर की हत्या कुछ निरंकुश हत्यारों के द्वारा की गई थी। इस...

Recent Comments